Art of living/जीवन जीने की कला

ज़िंदगी को कोई कहता है बड़ी मुश्किल होती है ज़िंदगी, कोई कहता है आसान होती है ,कोई कहता है बस चलती रहती है जो बीत रहा सब अच्छा है । सबकी ज़िंदगी को लेकर अपनी-अपनी सोच और समझ होती है। परन्तु सच यह भी है की ज़िंदगी जीना एक कला है ,कला उस ज़िंदगी की मुश्किलों में भी मुस्कुराते रहने की कला हर सुख को सबसे साझा कर खुश रहने की कला ज़िंदगी का सफर किसी कलाकार की तरह खूबसूरती से जीने की कला है। कलाकार जीतना उम्दा होगा ज़िंदगी उतनी ही खूबसूरत होगी जिस तरह कलाकार अपनी पेन्टिंग को बड़ी समझदारी से रंगों से सजाता -संवारता ताकि देखने वाले  को सुकून मिले उसी प्रकार इंसान भी अपने ज़ीवन का अपनी ज़िंदगी का कलाकार होता है उसे अपने खुद के जीवन में क्या चाहिए ,क्यों चाहिए समझ कर अपनी जीवनशैली बदलकर या सुधारकर एक बेहतरीन कलाकार की तरह अपनी ज़िंदगी भी खूबसूरत बना सकता है ज़िंदगी जीने की कला सीख सकता है । कुछ लोग इस कला को बखूबी जानते हैं तो कुछ इससे कोसों की दूरी बनाकर रखते हैं ।

अक्सर हम अपने आस-पास कुछ ऐसे लोग देखते है जो रोज़मर्रा की काम को बड़ी मुश्किल की तरह देखते हैं । ज़िंदगी की छोटी-छोटी, मामूली परेशानियों को किसी तूफानी मुसिबत की तरह जाहिर करते हैं और पूरे माहौल को परेशानी भरा बना देते हैं वो समस्या का सामाधान नहीं ढूंढते बल्कि समस्या बढ़ा-चढ़ा कर बड़ी बताते हैं जिससे उनके जीवन में व उनके करीबी लोगों के जीवन में अत्यधिक तनाव रहता है । इसका सीधा असर उनकी मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है और वो लोग जीवन के हर क्षेत्र में पिछड़ते चले जाते है ऐसा तनाव भरा माहौल उनकी तरक्की में एक बड़ी बाधा बन जाता है अपने इस व्यवहार से वो लोग अपने व अपनों का जीवन मुश्किलों भरा बना देते हैं।

इसलिए बड़े बड़े र्दाशनिको़ ने कहा है जीवन जीना एक कला है आप कितने अच्छे कलाकार हैं कितने अच्छे कलाकार बन सकते उस पर आप का जीवन आप की ज़िंदगी की खुशहाली र्निभर करती हैं। जीवन सभी जीते हैं ज़िंदगी की रोज़मर्रा की मुश्किलें सभी हल करते हैं परन्तु कैसे ,किस प्रकार उस मुश्किल का सामाधान ढूंढते हैं उस पर आप के जीवन की शांति-सुख र्निभर होता है । किसी भी मुश्किल में किसी परेशानी को और बड़ी और समस्या भरा बनाने में या समाधान करने में उस व्यक्ति की प्रतिक्रिया बहुत मायने रखती है हम उस समस्या पर किस तरह से प्रतिक्रिया करते हैं वही हमारी परेशानी हमारी समस्याओं का रूप -स्वरूप बनाता है । इसलिए अपने जीवन में हर व्यक्ति, हर इंसान को एक कलाकार बनने की जरूरत है एक कलाकार की तरह ही अपनी ज़िंदगी के प्रति सहज भाव रखने की जरूरत है किस समस्या पर किस तरह की प्रतिक्रिया देनी चाहिए यह समझ कर एक कलाकार बन जाईए जीवन जीने की कला समझने की ज़रूरत है आप खुद अपनी ज़िंदगी के कलाकार बनिए फिर देखिए आपके जीवन की तस्वीर आप के अनुसार बनेगी उत्साह ,उमंग से भरपूर खूबसूरत ही बनेगी ।

.

.

.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: