वोटर का धर्म

‘ वोटर का धर्म, किसी भी गणतन्त्र देश में नागरिकों का योगदान बहुत महत्वपूर्ण होता है किसी भी देश को गणतंत्र, लोकतांत्रिक देश बनाने में एक अच्छे देश का निर्माण करने में सहभागिता होती है। भारत एक ऐसा देश है जहाँ साल भर कहीं न कहीं चुनाव होते रहते हैं। जिसमें लोक सभा व विधानसभा के चुनाव की खासी चर्चा होती है। यहाँ कुछ वोटर जागरूक हैं तो कुछ वोट करना बोझ समझते हैं वह सरकार के कामों का आंंकलन किये बिना ही किसी भी पार्टी को वोट कर देते हैं यहाँ जातिगत व धर्म की राजनीति भी बहुत तेज चलती है जिसकी वजह से वोटर विकास कार्य को अन्देखा कर देते हैं वोट को निम्न व गैर जरूरी काम। की श्रेणी में रखते हैं। आज के वोटर को जागरूक होने की आवश्यकता है सरकार से सवाल करने की आवश्यकता है। सरकार के कामों का आंंकलन कर समय पर सही र्निणय लेना चाहिए अपने अधिकारों के प्रति जागरूक रहें सरकार की गतिविधियों पर नज़र रखें विकास ,सुरक्षा ,स्वास्थ्य , शिक्षा व जलवायु परिवर्तन पर कार्य करने के लिए चुनी गई सरकार को कहें । एक वोटर ही आपनी जागरूकता से देश को तानाशाही से बचा सकता है । इसके लिए हर सरकार को पाँच या दश साल पे वोटिंग प्रक्रिया द्वारा बदल देना चाहिए । ज़्यादा समय तक एक ही पार्टी की सरकार रहने से देश में तानाशाही का माहौल बनते देर नहीं लगती । तानाशाही से देश को बचाना भी एक जागरूक वोटर का ही काम है। आजकल पार्टियां तरह -तरह के आडम्बर अपना रही हैं जनता को भ्रमित करती हैं जातिगत बयान देती हैं इसलिए वोटर को और सतर्क होने की आवश्यकता है अच्छे व जगरूक नागरिक बनें भविष्य को ध्यान में रखें व सोच समझ कर वोट करें देश को तानाशाही को ओर बढ़ने से रोकें वोटर वोट जरूर करें जिम्मेदारी के साथ देश के निर्माण में भागीदार बनें वोटर का धर्म निभाएं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: